पीएम केयर्स फंड से खरीदे जाएंगे एक लाख ऑक्सीजन कंसंट्रेटर, प्रधानमंत्री मोदी का बड़ा फैसला

0
19

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवार को हुई एक हाई लेवल बैठक में यह फैसला लिया गया. बैठक में कोविड-19 प्रबंधन के लिए लिक्विड ऑक्सीजन की आपूर्ति बेहतर करने के लिए आवश्यक कदमों पर चर्चा की गई.

नई दिल्ली: देश में कोरोना महामारी से मचे हाहाकार और ऑक्सीजन की भारी किल्लत के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  ने बड़ा फैसला लिया है. पीएम ने बुधवार को कहा कि सरकार प्रधानमंत्री नागरिक सहायता और आपात राहत कोष से एक लाख पोर्टेबल ऑक्सीजन कंसंट्रेटर खरीदेगी.  इसके अलावा देश के विभिन्न राज्यों के स्वास्थ्य केंद्रों में 500 पीएसए (प्रेशर स्विंग ऐड्सॉर्प्शन) मेडिकल ऑक्सीजन प्रोडक्शन प्लांट लगवाएगी.

प्रधानमंत्री ने कहा कि इससे जिला मुख्यालयों और टू टीयर शहरों में ऑक्सीजन की उपलब्धता बेहतर होगी.

 

नहीं होगी ऑक्सीजन की कमी

प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) ने एक बयान में कहा कि ऑक्सीजन कंसंट्रेटर और पीएसए प्लांट्स से राज्यों को ऑक्सीजन की आपूर्ति तेज होगी.

हाई लेवल मीटिंग में लिया गया फैसला

यह फैसला प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में हुई एक हाई लेवल बैठक में लिया गया. बैठक में कोविड-19 प्रबंधन के लिए लिक्विड ऑक्सीजन की आपूर्ति बेहतर करने के लिए आवश्यक कदमों पर चर्चा की गई.

PM ने दिए ये निर्देश

प्रधानमंत्री ने निर्देश दिया कि इन ऑक्सीजन कंसंट्रेटरों को जल्द से जल्द खरीदा जाए और जिन राज्यों में कोविड-19 के मामले सबसे अधिक हैं उन्हें इनकी आपूर्ति की जाए. इससे पहले सरकार पीएम केयर्स फंड से ऐसे ही 713 पीएसए प्लांट्स की स्थापना को मंजूरी दे चुकी है.

PM मोदी ने ट्वीट कर दी जानकारी

पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘एक लाख पोर्टेबल ऑक्सीजन कंसंट्रेटर खरीदे जाएंगे, साथ ही 500 और पीएसए ऑक्सीजन प्लांट्स की स्थापना को पीएम केयर्स फंड से मंजूरी दी गई है. इससे जिला मुख्यालयों और टीयर-2 शहरों में ऑक्सीजन की उपलब्धता बेहतर होगी.’

इन 500 पीएसए ऑक्सीजन प्लांटों की स्थापना रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (Defense Research and Development Organization- DRDO) और वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद (Council of Scientific and Industrial Research- CSIR)  द्वारा विकसित टेक्नोलॉजी और डोमेस्टिक मैन्युफैक्चरर द्वारा की जाएगी.

बता दें कि देश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के मद्देनजर अस्पतालों में ऑक्सीजन की मांग तेजी से बढ़ी है. बयान के मुताबिक इस तरह से अपने स्तर पर ऑक्सीजन उत्पादन सुविधा से इन अस्पतालों और जिले की दिन-प्रतिदिन की मेडिकल ऑक्सीजन की जरूरतें पूरी हो सकेंगी.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here