अमेरिका-चीन संबंधों पर बाइडेन बोले : ड्रैगन से मुकाबले के लिए समान विचारधारा वाले देशों का गठबंधन की जरूरत

0
194

अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन  अगले साल जनवरी में व्हाइट हाउस पर कब्जा करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। इससे पहले बाइडेन ने अमेरिका-चीन संबंधों को लेकर कहा कि चीन का सामना करने के लिए अमेरिका को  समान विचारधारा वाले देशों का गठबंधन बनाने की जरूरत है। बाइडेन ने सोमवार को कहा, ‘‘जब हम व्यापारिक क्षति, प्रौद्योगिकी, मानवाधिकारों और अन्य मोर्चों पर चीन की सरकार को जवाबदेह ठहराते हैं और उनके साथ प्रतिस्पर्धा करते हैं, ऐसे समय में समान विचारधारा वाले सहयोगी देशों के साथ साझा हित और हमारे साझा मूल्यों के गठबंधन से हमारी स्थिति मजबूत होगी।”

बाइडेन ने राष्ट्रीय सुरक्षा और विदेश नीति एजेंसी की समीक्षा टीम के सदस्यों के साथ अपनी ब्रीफिंग के बाद कहा कि डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन के तहत दोनों देशों के बीच शिजियांग में मानवाधिकार उल्लंघन, हांगकांग की विशेष स्थिति पर अतिक्रमण, बीजिंग द्वारा अनुचित व्यापार प्रथाओं का आरोप, महामारी के संबंध में पारदर्शिता की कमी और दुनिया के विभिन्न हिस्सों में चीन की सैन्य आक्रामकता जैसे मुद्दों पर संबंध खराब हो गए थे। बाइडेन ने कहा कि चीन की तुलना में अन्य लोकतंत्रों के साथ साझेदारी करने वाले देश में अमेरिकी आर्थिक उत्तोलन को दोगुना से अधिक करेगी।

उन्होंने कहा, ‘हम वैश्विक अर्थव्यवस्था का लगभग 25 प्रतिशत अपने दम पर कर रहे हैं, लेकिन अपने लोकतांत्रिक सहयोगियों के साथ  हम अपने आर्थिक लाभ को दोगुना से अधिक कर रहे हैं । चीन और रूस के खिलाफ सुरक्षा चुनौतियों को पूरा करने के मुद्दे पर बाइडेन ने कहा कि अमेरिका को खुद को सबसे मजबूत स्थिति में लाने के लिए सुधार करना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘हमें अपनी क्षमताओं के बीच के अंतर को खत्म करने की जरूरत है और भविष्य में घुसपैठ के इन प्रकारों का बेहतर पता लगाने, बाधित करने और जवाब देने की जरूरत है।’

बाइडेन ने कहा है कि देश के निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के नेतृत्व वाला प्रशासन राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े अहम क्षेत्रों पर उनके सत्ता हस्तांतरण दल को सभी जानकारियां मुहैया नहीं कर रहा है, जो कि ‘‘गैरजिम्मेदाराना है और राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा” है। डेलावेयर के विलमिंगटन में बाइडेन ने सोमवार को कहा कि उनकी टीम को सत्ता हस्तांतरण के लिए आवश्यक जानकारी हासिल करने में रक्षा मंत्रालय और प्रबंधन एवं बजट कार्यालय में ‘‘राजनीतिक नेतृत्व” द्वारा उत्पन्न की गईं ‘‘बाधाओं” का सामना करना पड़ रहा है। बाइडेन ने  आगाह किया कि उनके दल को रक्षा विभाग की बजट प्रक्रिया में ‘‘पूरी पारदर्शिता” चाहिए ताकि भ्रम उत्पन्न करने वाले उन सभी स्थितियों से बचा जा सके, जिनका विरोधी फायदा उठा सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here