बालों में लगाए इस देशी चीज का तेल और फिर देखें चमत्कार

0
4511

गांव में रहनेवाले लोगों के बाल आज भी शहर के लोगों की अपेक्षा कम झड़ते हैं और देरी से सफेद होते हैं। इसकी मुख्य वजह यह है कि गांव के लोग शहरों के लोगों की तुलना में अपने बालों पर केमिकल्स युक्त प्रॉडक्ट्स का उपयोग कम करते हैं। गांवों में आज भी देसी और सदियों पुराने नुस्खों का पालन किया जाता है। ऐसा ही एक देसी नुस्खा है बालों में अरंडी के तेल का उपयोग। यहां जानें इस तेल को लगाने का तरीका…

अरंडी के तेल को ज्यादातर युवा कैस्टर ऑइल के रूप में जानते हैं। आपको बता दें प्योर कैस्टर ऑइल की थिकनेस और चिपचिपाहट के कारण आप सीधे तौर पर इसका उपयोग बालों पर लगाने के लिए नहीं कर पाएंगे। इसलिए इस तेल को उपयोग योग्य बनाने और इसके गुणों में वृद्धि करने के लिए आपको इसमें दो खास चीजें मिला लेनी चाहिए। इनके बारे में यहां बताया जा रहा है… बालों में कैस्टर ऑइल लगाने के लाभ -कैस्टर ऑइल यानी अरंडी का तेल बालों को काला, लंबा और घना रखने का प्राचीन नुस्खा है। लेकिन हमारे समाज पर हावी होते बाजारवाद ने प्राकृतिक औषधियों से लोगों का ध्यान हटाने का काम किया है। देर से ही सही, एक बार फिर आयुर्वेद की तरफ हमारे समाज का झुकाव बढ़ने लगा है।

कैस्टर ऑइल बहुत लाइट होता है लेकिन अपने गाढ़ेपन और चिपचिपाहट के कारण इसे शुद्ध रूप में बालों पर लगाना संभव नहीं हो पाता है। क्योंकि इससे बाल चिपचिपे दिखने लगते हैं। इसलिए मार्केट में इसकी रिफाइंड क्वालिटी आराम से उपलब्ध है। हालांकि रिफाइन करने के दौरान इसके प्राकृतिक गुणों में कमी आ जाती है। आप ऐसे बढ़ाएं एरंड ऑइल के गुण -संस्कृत भाषा में अरंडी को एरंड कहा जाता है और अंग्रेजी में कैस्टर। एरंड तेल के गुण बढ़ाने के लिए आप इसमें शुद्ध सरसों तेल और ऑलिव ऑइल मिला लें। इन तीनों तेलों के मिलने से तैयार मिश्रण आपके झड़ते बालों को रोकने का एक बहुत प्रभावी नुस्खा साबित होगा।

आपको यह मिश्रण शैंपू करने से 1 घंटा पहले लगाना है। यह आपके बालों के लिए एक मास्क का काम करेगा। जो सिर की त्वचा को पोषण देकर बालों की जड़ों को मजबूत बनाएगा और उनमें नमी ब्लॉक करने का काम भी करेगा। इससे आपके बाल गिरने भी कम हो जाएंगे और नए बालों का उगना तेजी से शुरू हो जाएगा। सिर से डैंड्रफ की समस्या दूर करे -आयुर्वेद के अनुसार, किसी भी व्यक्ति के सिर में डैंड्रफ की समस्या शरीर में वात दोष यानी वायु के बढ़ने से होती है। एरंड का तेल सिर की त्वचा के रोम छिद्रों के माध्यम से शरीर में प्रवेश कर जाता है और वायु विकार को कम करके सिर से डैंड्रफ की समस्या को दूर करता है।

आयुर्वेद की भाषा में इस गुण को स्निग्धता बढ़ाना कहते हैं। यानी एरंड का तेल आपके सिर की त्वचा का रूखापन दूर करके उसमें प्राकृतिक चिकनाई को बढ़ाता है, जिससे सिर की त्वची से पपड़ियां उतरना यानी डैंड्रफ बनना बंद हो जाता है। ऐसे लगाएं ऑइल मास्क और पाएं लंबे बाल -एरंड, ऑलिव ऑइल और सरसों के तेल को मिलाकर तैयार किए गए ऑइल मास्क को शैंपू करने से कम से कम 1 घंटा पहले बालों पर और बालों की जड़ों में अच्छी तरह लगा लें। इसके बाद कॉटन के एक मोटे तौलिया को गर्म पानी में भिगोए और फिर इसे अच्छी तरह निचोड़कर बालों पर लपेट लें। -ऐसा करने से आपके सिर की त्वचा सॉफ्ट हो जाएगी और रोम छिद्र खुल जाएंगे। इससे यह तेल आपके बालों की स्कैल्प में अंदर तक प्रवेश कर पाएगा और बालों की जड़ों को मजबूत बनाकर उनका झड़ना कम करेगा। शैंपू करते समय रखें ध्यान – करीब 1 घंटा बाद शैंपू करते समय इस बात का ध्यान रखें कि बालों में अधिक गर्म पानी का उपयोग ना करें। इससे बाल रूखे और बेजान बनते हैं। साथ ही उनकी जड़ों से नमी भी बाहर निकल जाती है। इसलिए ठंडे पानी में इतनी मात्रा में गर्म पानी का मिश्रण करें कि इस पानी का तापमान सामान्य हो जाए और आप आराम से शैंपू कर पाएं। -शैंपू करते समय हार्ड शैंपू का उपयोग बिल्कुल ना करें। बल्कि माइल्ड शैंपू से बाल धोएं। इसके लिए शैंपू खरीदते समय इस बात पर ध्यान दें कि उसके शैशे पर सल्फेट फ्री लिखा हो। आप दुकानदार से सल्फेट फ्री शैंपू की डिमांड भी कर सकते हैं।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here