केजरीवील ने की किसानों के समर्थन में उपवास रखने की अपील

0
21

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि  वह किसानों के समर्थन में सोमवार को एक दिन का उपवास करेंगे और आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं तथा देशवासियों से अपील है कि वे भी एक दिन का उपवास रखें। केजरीवील यहां संवाददाताओं से कहा कि पिछले कुछ दिनों से भाजपा के मंत्री और नेता किसानों को देशद्रोही बताकर उनके आंदोलन को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं। देश की रक्षा करने वाले हजारों पूर्व सैनिक भी किसानों के साथ बॉर्डर पर बैठे हैं, खिलाड़ी, सेलिब्रिटी और डॉक्टर आदि भी समर्थन में हैं। भाजपा के मंत्री-नेता बताएं कि क्या ये सारे लोग देशद्रोही हैं? उन्होंने कहा कि अन्ना हजारे के साथ रामलीला मैदान में हुए आंदोलन के दौरान कांग्रेस की केंद्र सरकार ने भी उन्हें देश विरोधी बता कर बदनाम किया था, आज वही काम भाजपा सरकार कर रही है।

उन्होंने कहा ‘‘ किसानों ने कल एक दिन के उपवास का ऐलान किया है। पूरे देश की जनता से उन्होंने अपील की है कि उनके समर्थन में सब लोग एक दिन का उपवास रखें। मैं भी उनके साथ कल एक दिन का उपवास रखूंगा। मैं सभी आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं, समर्थकों से अपील करता हूं कि वो भी किसानों की इन मांगों के समर्थन में एक दिन का उपवास रखें। मैं देश के सभी लोगों से अपील करता हूं। ऐसे बहुत सारे लाखों-करोड़ों लोगों को मैं जानता हूं जो दिल से किसानों के साथ हैं। अपने दिन-ब-दिन की दिनचर्या की वजह से वह सीमा पर नहीं पहुंच पा रहे हैं, लेकिन वे दिल से उनके साथ हैं। अब उनको भी मौका मिला है। ऐसे सब लोग अपने-अपने घरों में एक-एक दिन का उपवास रखें और किसानों की मांगों के समर्थन में प्रार्थना करें। ’’

मुख्यमंत्री ने कहा ‘‘ मुझे अन्ना हजारे के आंदोलन के दिन याद आ गए। उस वक्त की कांग्रेस की सरकार भी तरह तरह के षड्यंत्र रच कर हम लोगों के खिलाफ रोज अखबारों, मीडिया, टीवी चैनलों पर स्टोरी प्लान करवाती थी। उन दिनों कांग्रेस के द्वारा जिस तरह से उनके आंदोलन को बदनाम करने की कोशिश की जा रही थी, आज वही कोशिश किसानों के आंदोलन को बदनाम करने के लिए बीजेपी, सत्तापक्ष कर रहा है। इस देश के अंदर जमाखोरी करना जुर्म होता था, क्योंकि जमाखोरी करने से कीमतें बढ़ती थी। अब केंद्र सरकार जो कानून लाई है, उसमें जमाखोरी करना अपराध खत्म कर दिया गया है। अब जमाखोरी करना अपराध नहीं बचा है। अब कोई कितने भी सामान, अनाज की जमाखोरी कर सकता है। ऐसे में जिनके पास पैसा है, वह अपने पास बहुत सारा अनाज स्टोर करके रख लेंगे।’’

उन्होंने कहा कि इस देश का एक-एक आदमी इन कानूनों को समझ रहा है। हर आदमी इन कानूनों को और इनकी बारीकियों को समझ रहा है। ऐसे लोग जो अपनी जिंदगी में व्यस्त होने की वजह से सीमा पर नहीं पहुंच पा रहे हैं, उनका दिल किसानों के साथ है। मेरी केंद्र सरकार से गुजारिश है कि अहंकार छोड़िए। अहंकार अच्छी चीज नहीं होती। सरकारें जनता से बनती हैं, जनता सरकारों से नहीं बनती है। अगर जनता इन तीनों कानूनों के खिलाफ है तो इन तीनों बिलों को तुरंत रद्द किया जाए।  जितनी भी किसानों की मांगें हैं उन सारी मांगों को तुरंत मंजूर किया जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here