जादू-टोना के लिए इस्तेमाल किया जाता है ये दुर्लभ कछुआ, नशीली दवाओं के लिए होती है विश्व स्तर पर तस्‍करी

0
10

एक कपल उजनी बांध में मछली पकड़ने गया था उसी दौरान उन्‍हें एक सुंदर कछुआ नजर आया। इस बारे में उन्होंने जब वन‍ विभाग के अधिकारियों को बताया तो पता लगा कि यह दुर्लभ प्रजाति का इंडियन स्‍टार कछुआ है जो लुप्‍तप्राय हो गया है। इस कछुए का उपयोग कुछ लोग तंत्र-मंत्र में भी करते हैं।

 

 

खबर के मुताबिक महाराष्ट्र में पुणे जि‍ले के इंदापुर में इंडियन स्टार नस्ल का यह दुर्लभ कछुआ पाया गया है। भिगवण के पास उजनी बांध में मछली पकड़ने वाले जोड़े को ये कछुआ मिला। विश्वस्तर पर बेहद दुर्लभ प्रजाति का यह कछुआ इंदापुर में विनोद काले और उनकी पत्नी शिवानी काले को मिला है।

 

 

इंडियन स्टार कछुआ आम कछुए की तुलना में अधिक सुंदर होता है और इसकी बाहरी खाल पर चमकदार भाले के आकार के डॉट्स हैं जो सितारों की तरह दिखते हैं। यह दुर्लभ कछुआ दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी प्रजाति है। अंधविश्वास, होम फेंगशुई, जादू-टोना और नशीली दवाओं के उत्पादन जैसे कारणों से इन कछुओं की विश्व स्तर पर तस्करी की जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here