किसानों को जागरूक करने की जरूरत : नायडू

0
13
उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने किसानों को कृषि विविधीकरण और परंपरागत भारतीय तकनीक के संबंध में जागरूक करने पर बल देते हुए शनिवार को कहा कि पशुपालन , मछली पालन,  और खाद्य प्रसंस्करण उद्योग पर भी ध्यान दिया जाना चाहिए।  उपराष्ट्रपति ने यहां  आचार्य एन जी  रंगा की 120 वीं जयंती समारोह ऑनलाइनसंबोधित करते हुए कहा कि फसल विविधीकरण के संबंध में किसानों को जागरूक कर उनकी आय में इजाफा किया जा सकता है।
मछली पालन , पशुपालन,  कीट पालन और खाद्य प्रसंस्करण आदि से किसानों की आय में वृद्धि हो सकती है। यह सभी कृषि का ही अंग है. किसानों को खेती से इतर कृषि से जुड़े कार्यों के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। इससे किसानों की आय के नए स्रोत खुलेंगे। उन्होंने कहा कि किसानों को दलहन और तिलहन की खेती करने के अलावा नगदी फसलों के लिए भी प्रेरित किया जाना चाहिए।
उन्होंने कृषि भूमि की घटती उपजाऊ क्षमता पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि किसानों को भारतीय कृषि की परंपरागत तकनीक से अवगत कराने की जरूरत है। कृषि भूमि उपजाऊ बनाने के लिए रसायनों का इस्तेमाल कम से कम किया जाना चाहिए।  उपराष्ट्रपति ने  विश्वविद्यालयों  की प्रयोगशाला हो रहे प्रयोगों का लाभ किसानों तक पहुंचाने की अपील करते हुए कहा कि उनके प्रयासों का लाभ कृषि क्षेत्र को मिलना ही चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here