शतावरी नहीं है किसी चमत्कारी बूटी से कम, इसके फायदे जानकर आप भी रह जाएंगे हैरान!

0
9

आयुर्वेद की दुनिया में कई समस्याओं का समाधान मौजूद होता है। यहां ज्यादातर बीमारियों का इलाज जड़ी-बूटियों से किया जाता है। आयुर्वेद में कई अद्भूत जड़ी बूटियां मौजूद होती हैं, इन्हीं में से एक शतावरी भी है। इसके बारे में कम ही लोगों को जानकारी हैं कि ये कहा पाया जाता है, इसका कैसे इस्तेमाल करते हैं, किन-किन चीजों में ये फायदेमंद है और ये होता क्या है। अगर आप भी उन्हीं में से एक हैं जो शतावरी क्या होती है और इसके फायदे क्या हैं इसके बारे में नहीं जानते हैं, तो आइए आपको इसके बारे में बताते हैं।

शतावरी क्या है? 

शतावरी एक जड़ी-बूटी होती है, जो देखने में बेल या झाड़ की तरह होती है। इसकी खेती भारत में कई जगहों पर होती है। शतावरी के एक बेल के नीचे तकरीबन 100 से अधिक जड़ें होती हैं। ये जड़ें 1-2 सेमी मोटी और करीब 30-100 सेमी लम्बी होती हैं। विशेषज्ञों के अनुसार शतावरी की पहचान साल 1799 में की गई थी। अगर बात करें इसकी खासियत की तो इसमें विटामिन ए, विटामिन बी 6, विटामिन सी, विटामिन ई, प्रोटीन,विटामिन के, फोलेट, कैल्शियम, फाइबर और आयरन मौजूद होते हैं। आइए आपको शतावरी के फायदों के बारे में बताते हैं।

 

वजन कम करें

अगर आप अपने बढ़ते वजन से परेशान हैं और कई प्रयासों के बाद भी आपका मोटापा कम नहीं हो रहा है, तो आप शतावरी का सहारा ले सकते हैं। ये वजन कम करने के लिए रामबाण माना जाता है। इसमें मौजूद घुलनशील और अघुलनशील फाइबर वजन कम करने में मदद करते हैं। इसमें फैट और कैलोरी की मात्रा भी काफी कम होती है। इसलिए वजन कम करने के लिए ये एक अच्छा आहार माना जाता है।

 

यूरि‍न संक्रमण और कि‍डनी के लिए फायदेमंद

शतावरी का इस्तेमाल यूर‍िन संक्रमण या यूटीआई और क‍िडनी के ल‍िए किया जाता है। इस तरह की समस्या के लिए ये काफी फायदेमंद है। इसे एक प्राकृतिक मूत्रवर्धक कहा जाता है। बार-बार पेशाब करने पर ये शरीर से अतिरिक्त नमक और तरल पदार्थों को बाहर निकालता है। ये ही कारण है कि शतावरी का सेवन करने से यूटीआई और क‍िडनी दोनों को लाभ होता है।

 

दिल रहेगा सेहतमंद 

शतावरी के सेवन से दिल भी स्वस्थ रहता है। ऐसा इसलिए क्योंकि इसमें कम मात्रा में कोलेस्ट्रॉल मौजूद होता है और ये दि‍ल के लि‍ए काफी अच्छा साब‍ित होता है। एंटीऑक्सिडेंट होने के कारण ये दि‍ल के रोगों को दूर रखने में मदद करता है।

 

सांसों के रोगियों के लिए फायदेमंद

शतावरी सांसों के रोगियों के लिए भी काफी फायदेमंद साबित होता है। इसके अलावा रक्त से संबंधित बीमारी, वात और पित्त विकार, सीने में जलन और बेहोशी की समस्या में भी ये काफी लाभदायक रहता है।

स्तनों में दूध की कमी को करे पूरा

कई महिलाओं को मां बनने के बाद स्तनों में दूध की कमी की समस्या का सामना करना पड़ता है। ऐसे में अगर वो शतावरी का सेवन करें तो उन्हें लाभ हो सकता है। इसके लिए वो शतावरी के जड़ के चूर्ण को 10 ग्राम को दूध में मिलाकर पीएं। इसका सेवन करने से स्तनों में दूध की कमी पूरी होती है।

 

कैंसर का खतरा करे कम

शोधकर्ताओं ने बताया है कि कई शोधों के अनुसार शतावरी में सल्फोराफेन, एंटीऑक्सिडेंट और एंटी-इन्फ्लमाटरीज मौजूद होते है, जो कैंसर को रोकने में मदद करता है।

 

सिर दर्द में फायदेमंद 

सिर दर्द की समस्या से कई लोग परेशान रहते हैं। इससे राहत पाने के लिए अधिक दवा का सेवन करना भी सही नहीं रहता है, ऐसे में आप शतावरी का सहारा ले सकते हैं। इसकी ताजी जड़ को पहले पीस लें और फिर इससे निकले रस को निकालें। जितना आपने रस निकाला हो उतना ही तिल का तेल लेकर उसे उबाल लें। इसके बाद ठंडे होने पर इस बने हुए तेल से सिर की मालिश कर लें। कुछ ही देर में आपका सिर दर्द ठीक हो जाएगा।

 

सेक्सुअल पॉवर बढ़ाएं 

मर्दानगी ताकत कमजोर या यौन सहनशक्ति की कमी होने से काफी लोग परेशान रहते हैं। ऐसी परिस्थिति में शतावरी का इस्तेमाल लाभदायक हो सकता है। इसके लिए शतावरी चूर्ण को दूध में मिलाकर खीर बनाकर खाने से सेक्सुअल स्टेमना में वृद्धि होती है।

 

स्वप्नदोष को करे ठीक

शतावरी से स्वप्नदोष को भी ठीक किया जा सकता है। इसके लिए ताजी शतावर की जड़ का चूर्ण बनाकर दूध के साथ सेवन करना होता है। आप चाहें तो बाजार से भी शतावरी की जड़ का चूर्ण खरीद सकते हैं। 6 से 11 ग्राम के चूर्ण में पीसी मिश्री को 250 मिली दूध में मिलाकर सुबह-शाम सेवन करें। इस तरह से कुछ ही दिनों में स्वप्नदोष दूर की समस्या दूर हो जाएगी। साथ ही आपकी सेहत बननी शुरू हो जाएगी।

हैंगओवर करे दूर

शतावरी में मि‍नरल और अमीनो एसिड मौजूद होता है। ऐसे में इसके सेवन से रातभर के हैंगओवर को दूर किया जा सकता है।

 

गर्भावस्था के दौरान है फायदेमंद

गर्भावस्था के दौरान शतावरी का सेवन करना अच्छा साबित हो सकता है। इसमें मौजूद फोलेट गर्भावस्था के शुरुआत के समय बहुत अच्छा रहता है। इसके सेवन से बच्चे के जन्म से जुड़े दोष और जोखि‍मों को कम किया जा सकता है।

 

चमकदार त्वचा के लिए फायदेमंद

शतावरी में एंटीऑक्सिडेंट ग्लूटाथियोन मौजूद होता है। ऐसे में ये घाव भरने और मुंहासों को रोकने में मददगार साबित होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here